Connect with us

Attack

Live images जम्मू-कश्मीर में CRPF के काफिले पर बम और गोलियों से हमला, 8 जवान शहीद, 12 घायल

Published

on

जम्मू-कश्मीर में आतंकियों ने एक बार फिर सुरक्षाबलों को निशाना बनाया है. पुलवामा में अवंतीपोरा के गोरीपोरा इलाके में सुरक्षाबलों के काफिले पर जैश-ए-मोहम्मद आतंकी संगठन ने हमला किया. इस दौरान आईईडी धमाका हुआ. इस धमाके में 8 सीआरपीएफ जवान शहीद हो गए और 12 जवान गंभीर रूप से घायल हैं. ADS घायलों को नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इसके साथ ही इलाके में सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया गया है. बताया जा रहा है कि काफिले में सीआपीएफ की करीब दर्जनभर गाड़ियों में 2500 से अधिक जवान सवार थे. आतंकियों ने सुरक्षाबलों की एक गाड़ी को निशाना बनाया है.

 

Pulwama: 2019सीआरपीएफ के सूत्रों का कहना है कि सड़क पर एक चार पहिया वाहन में IED लगाया गया था. कार हाईवे पर खड़ी थी. जैसे ही सुरक्षाबलों का काफिला कार के पास से गुजरा, उसमें ब्लास्ट हो गया. इस दौरान काफिले पर फायरिंग की भी खबर है. इस हमले में 8 सीआरपीएफ जवानों की मौत गई, जबकि 8 गंभीर रूप से घायल हो गए हैं. बता दें, अफजल गुरू की बरसी यानि 8 फरवरी को ख़ुफ़िया एजेंसियों ने बड़ा अलर्ट जारी किया था,

 

जिसमें IED प्लांट का अलर्ट था. इस अलर्ट में कहा गया था कि जम्मू कश्मीर में आतंकी सुरक्षा बलों के डिप्लॉयमेन्ट और उनके आने जाने के रास्ते पर IED से हमला कर सकते हैं. सुरक्षा बलों को अलर्ट करते हुए ख़ुफ़िया एजेंसियों ने कहा था कि एरिया को बिना सेंसिटाइज किए उस एरिया में ड्यूटी पर न जाएं.

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Attack

For Terrorism Fund, Masood Azhar Went To UK, Gulf, Africa

Published

on

Jaish-e-Mohammed chief Masood Azhar visited England to collect funds for terrorists camp in Jammu and Kashmir and his travel was facilitated by a Muslim cleric of Gujarati origin.
As he stayed in the UK, he visited a number of mosques and collected Rs. 15 lakh in Pakistani currency.
Azhar is the founder of Jaish-e-Mohammed, responsible for a series of terror strikes in India including the attack on Parliament in 2001 and a CRPF convoy in Pulwama last month.
According to Azhar’s interrogation report available with security agencies in New Delhi, he had visited the UK in October 1992.
“I stayed with Mufti Ismail in the UK for about a month and visited several mosques in Birmingham, Nottingham, Burleigh, Sheffield, Dudsbury and Leicester where I sought financial assistance for Kashmir (terrorists). I could collect Rs. 15 lakh (Pakistani currency),” he told his interrogators.
“Since Hizbul Mujahideen owed allegiance to Jamat, we were politely refused any aid. The Arab nations as such do not want to give aid for the Kashmir cause,” he told the interrogators.
“I spent two days in Dhaka and thereafter travelled to Delhi by Bangladesh Airlines (Biman), reaching the IGI Airport in the early hours of January 29, 1994. The immigration officials at the IGI commented that I did not look like a Portuguese but when I replied that that I was a Gujarati by birth, he did not hesitate to stamp my passport.”
“I hired a taxi and asked for a good hotel. I was taken to the Ashok hotel in Chanakyapuri where I stayed,” the interrogation report read.
“They were happy about my visit and merger of Harkat-ul-Mujahideen and Harkat-ul-Jihad al-Islami. I had taken their addresses and letters so that I could communicate their welfare to their families after returning to Pakistan,” he had told the interrogators.
“Farooq started running and opened fire which was returned by the Army men. Farooq managed to escape but I along with Afghani was arrested,” he told the interrogators.

Continue Reading

Accident

France imposes sanctions on Jaish-e-Mohammed chief Masood Azhar

Published

on

France sanctioned Jaish-e-Mohammed Chief, a global terrorist and took steps to stop the outfit from using French financial resources soon after China blocked a UN Security Council move to designate Masood Azhar.
A French government statement said the JeM claimed responsibility for the Pulwama attack, in which over 40 CRPF jawans were killed. “France has decided to sanction Masood Azhar at the national level by freezing his assets in application of the Monetary and Financial Code.
A joint decree of the Ministries of the Interior and Economy and Finance was published today in the Official Gazette,” said French Ambassador to India.
It is understood that the decision was aimed at imposing a national ban on Azhar.
“We will raise this issue with our European partners with a view to including Masood Azhar on the European Union list of persons, groups and entities involved in terrorist acts, based on this decree,” the press statement said.
The official said that the announcement will “impede all kind of access to the French financial sector to Masood Azhar”.
Sushma Swaraj, mimister of external affairs in India, called it a sign of “worldwide support” for India’s fight against terror. French Foreign Minister Le Drian called up Ms. Swaraj and informed her of the decision.
France gave its support to India’s international campaign on banning Masood Azhar as a terrorist who destroys global peace and safety. This action of France is expected to develop more pressure on Pakistan to take an action against the terror group in their country rather than helping and supporting them.
( With PTI inputs )

Continue Reading

Attack

नमाज पड़ते वक्त मस्जिद में हुई गोलीबारी, जान बचाकर भागे क्रिकेटर

Published

on

शुक्रवार सुबह न्यूज़ीलैंड के बड़े शहर क्राइस्टचर्च में गोलीबारी हुई। शहर
के दो बड़ी मस्जिदों में हुई इस हमले ने कई लोगों को मृत्यू दे परेसान किया
तो वहीं कई लोग घायल हो गए। गोलीबारी के दौरान बांग्लादेश की क्रिकेट टीम
उसी मस्जिद मौजूद थी। हालांकि, टीम के सदस्य पूरी तरह से सुरक्षित हैं, इस
बात की पुष्टी बांग्लादेश के खिलाड़ियों ने ट्वीट कर की है।
जिस वक्त गोलीबारी हुई उस वक्त बांग्लादेशी क्रिकेटर मस्जिद में नमाज़ पढ़
रहे थे, जिसके बाद उन्हें तुरंत वहां से सही सलामत निकाल लिया गया।
बांग्लादेशी क्रिकेटर पुलिस सुरक्षा के घेरे में वहां से निकले जिस वजह से
उनकी जान बच पाई। बांग्लादेशी क्रिकेटर तमीम इकबाल ने भी ट्वीट कर बताया कि
उनकी पूरी टीम इस समय सुरक्षित है, आप हमें दुआओं में याद रखें।


टीम के विकेटकीपर मुश्फिकुर रहीम ने भी घटना के बाद ट्वीट किरते हुए
उन्होंने लिखा कि क्राइस्टचर्च की मस्जिद में हुई गोलीबारी में वह सुरक्षित
बच गए हैं, हम बहुत लकी हैं जो बच गए हैं ऊपरवाला करे कि हमें ऐसा दिन
दाबारा कभी देखने को ना मिले।


क्रिकेट बोर्ड के प्रवक्ता जलाल युनुस के मुताबिक, मस्जिद में गोलीबारी के
समय कुछ खिलाडी मस्जिद में थे और कुछ टीम बस में ही थे। उन्होंने इस बात की
पुष्टि की है कि हादसे में कोई भी टीम के खिलाड़ी को नुकसान नहीं पहुंचा
है।


इस बात में कोई दोराह नहीं कि बांग्लादेशी टीम वहां पर दौरे पर गई है,
शनिवार को क्राइस्टचर्च में ही दोनों टीमों के बीच तीसरा टेस्ट मैच शुरू
होना था।
न्यूज़ीलैंड की पुलिस ने हमले की पुष्टि कर दी है। पुलिस ने एक वीडियो जारी
कर लोगों से अपील की है कि अगर कोई भी संदिग्ध व्यक्ति दिखता है तो पुलिस
को सूचना दें। खबरों के अनुसार हमलावर ने करीब 50 से अधिक राउंड फायरिंग की
है।

Continue Reading
Advertisement
Advertisement

Trending