Connect with us

Election

फटाफट 5 News- 6 February’19: Venets News

Published

on

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Election

Akali Dal Ministers burns photos of Navjot Singh Sidhu

Published

on

The Akali Dal on Monday sought dismissal of Punjab minister Navjot Singh Sidhu for his ‘utterances’ in the aftermath of the Pulwama attack even as Akali leader Bikram Singh Majithia and the cricketer-turned-politician exchanged barbs in the House.

Before the start of the Punjab Budget session, Akali leaders led by Majithia bunt the photographs of Sidhu including those in which he is seen hugging the Pakistan Army chief, outside the House. Sidhu visited Pakistan to attend the oath-taking ceremony of Khan, a cricketer-turned-politician, on August 18 last year.

“Before everything else, we want to know the clear stand of the Congress and the Punjab government. Do they condemn Pakistan Army Chief and Pakistan Prime Minister Imran Khan,” Majithia asked to reporters.

After passing a unanimous resolution in the House for condemning the Pulwama terror attack, Sidhu was still saying, “You cannot blame Pakistan, you cannot blame an individual,” Majithia told.

“We want Sidhu should be thrown out of the cabinet for his utterances,” said former Akali minister.

As the Question Hour commenced, SAD-BJP MLAs stood up and raised slogans against Sidhu.

Sidhu and Majithia were even involved in a verbal duel even as the Speaker asked them not to disrupt the Question Hour.

 

Continue Reading

Election

Priyanka Gandhi begins mission UP

Published

on

Priyanka Gandhi Vadra, maybe the upcoming true political successor of former Prime Minister Indira Gandhi, finally embraced her entry into politics on Monday with great road show in the state that sends the maximum number of 80 MPs to Lok Sabha and decides who will form the government in Delhi.

Ms Vadra embarked her first public event by a road show after being appointed the party’s general secretary, eastern Uttar Pradesh. She was accompanied by her brother and party president Rahul Gandhi.



The road show was of four and a half hour, which took thousands along its long route of 25 km through congested areas in the Old City, that helped the Congress to create a buzz in the crucial state.

On the roadshow’s route, Ms Vadra was dressed in a kurta-churidar and Mr Gandhi all over the road show waved to the supporters who were chanting their names when they were passing by. Many wore pink T-shirts emblazoned with her picture and some took selfies..

A day before her roadshow, Ms Priyanka Vadra said she hopes to start a “new kind of politics” in which everyone will be a stakeholder.

Monday’s roadshow was her first campaign outside the Gandhi family constituencies in Uttar Pradesh. “Come, let’s build a new future, new politics with me. Thank you,” she said in her Twitter debut that came few hours before the Lucknow roadshow.



Accompanied by Mr Gandhi and Jyotiraditya Scindia, in-charge of UP’s western region, Ms Vadra arrived at the Lucknow airport in the afternoon to a rousing reception by party workers.

During the roadshow, Mr Gandhi said the people to repeat his “chowkidar chor hai” barb against Prime Minister Narendra Modi in connection with the Congress’ corruption allegation in the Rafale fighter jet.

Mr Gandhi alleged that the Prime Minister has “stolen” money from Uttar Pradesh and other states to benefit industrialist Anil Ambani, a charge repeatedly denied by the government and Mr Ambani’s Reliance Group.

The Gandhi siblings were welcomed by a plethora of posters and billboards, many of which featured Indira Gandhi.

Continue Reading

Delhi

बचपन से ही अच्छे दोस्त थे प्रियंका व रॉबर्ट वॉड्रा, जानिए कैसे शुरू हुई लव स्टोरी

Published

on

यूपीए चैयरपर्शन व काँग्रेस पार्टी संरक्षक सोनिया गाँधी की पुत्री प्रियंका गाँधी वॉड्रा की राजनीति में एंट्री होते ही सियासत गर्माने लगी। काँग्रेस पार्टी ने प्रियंका गाँधी वॉड्रा को पूर्वी उत्तर प्रदेश का महासचिव नियुक्त किया गया।

महासचिव प्रियंका वॉड्रा सोमवार को अपने भाई और काँग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के साथ लखनऊ ने रैली कर अपना सियासी दॉव मजबूत करने की होड़ में हैं। ऐसे तो प्रियंका गाँधी देश के मजबूत व बड़े राजनीतिक घराने से ताल्लुक रखती हैं, मगर जमीनी स्तर पर प्रियंका का जुड़ाव बहुत रहा है। वैलेनटाइन वीक में आज प्रियंका की राजनीतिक कहानियों से हटकर बताएंगे उनकी लव स्टोरी के बारे में।

गाँधी परिवार में लव मैरिज की परंपरा पहले से चली आई है। प्रियंका ने भी अपने परिवार की इसी परंपरा का पालन करते हुए लव मैरिज की थी। प्रियंका को दिल्ली के उधोगपति रॉबर्ट वॉड्रा से प्यार हुआ था। समय के साथ दोनों की बातचीत का सिलसिला भी बड़ने लगा, और यह दोस्ती अब प्यार में तब्दील होने लगी।

 

व्यापारी परिवार से होने के कारण रॉबर्ट का कोई भी राजनीतिक जुड़ाव नही था। वॉड्रा का जन्म 18 अप्रैल 1969 में उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद शहर में हुआ था। मुरादाबाद शुरू से ही पीतल के लिए बहुत प्रसिध्द है। वॉड्रा के पिता भी एक पीतल के व्यापारी थे औऱ जबकि इनकी माँ स्कॉलैंड की निवासी हैं। रॉबर्ट वॉड्रा का परिवार मुख्य रूप से पाकिस्तान से है, विभाजन के बाद इनके दादा भारत में बस गए।

बचपन में रॉबर्ट और प्रियंका दोनों एक ही स्कूल में साथ पढा करते थे। दोनों की मुलाकात भी मिशेल वॉड्रा के जरिए हुई जो कि रॉबर्ट की बहन हैं। फिर क्या था दोनों की दोस्ती का यह पहला पढाव था जो कि शुरू हो चुका था।



रॉबर्ट के परिवार में पीतल और आर्टिफिशीयल ज्वैलरी का व्यापार होता था। रॉबर्ट अक्सर प्रियंका को खास ज्वैलरी उपहार में देते थे। रॉबर्ट जल्द ही राहुल के भी अच्छे दोस्त बन गए थे।

प्रियंका गाँधी जब रॉबर्ट से मिलने मुरादाबाद पहुंची तो यह खबर उस समय भारतीय मीडिया की सुर्खियों में थी। हालांकि वॉड्रा नही चाहते थे कि उन दोनों के बारे में लोगों को पता चले।

रॉबर्ट वाड्रा ने एक साक्षात्कार में बताया था, ‘हम तब मिले थे जब दिल्ली के ब्रिटिश स्कूल में पढते थे। मुझे लगा कि प्रियंका मुझमें दिलचस्पी रखती हैं। हम दोनों एक दूसरे से काफी बात करते थे लेकिन मैं नही चाहता था कि लोग इसके बारे में जाने क्योंकि लोग इसे गलत तरीके से लेते’।

प्रियंका के नज़दीक में हमेशा सुरक्षा का कड़ा घेरा रहता था। लेकिन क्लासमेट होने के कारण रॉबर्ट को प्रियंका से मिलने का मौका मिल जाता था। फिर रॉबर्ट ने भी प्रियंका के सामने सीधा शादी का प्रस्ताव रखा। गाँधी परिवार शुरूआत से ही वॉड्रा से बखूबी परिचित था इसलिए प्रियंका ने शादी के लिए हाँ कर दी।

दोनों ने जब शादी का फैसला कर लिया तो दोनों अब अपने परिवार वालों के पास पहुंचे। रॉबर्ट के पिता पहले इस शादी के खिलाफ थे , मगर आखिर में उन्होंने भी इस शादी को मंजूरी दे दी। अंतत: 18 फरवरी 1997 को दोनों ने दाम्पत्य जीवन की शुरूआत की। दोनों की शादी सोनियां गाँधी के सरकारी आवास 10 जनपथ पर हिन्दू रीति रिवाज़ों के साथ हुई थी। आज प्रियंका और रॉबर्ट वॉड्रा एक खुशहाल वैवाहिक जीवन में हैं। इनके दो बच्चे भी हैं, मिराया वॉड्रा और रेहान वॉड्रा।



प्रियंका गाँधी वॉड्रा ने एक इंटरव्यू में कहा था , “जब मैं उनसे पहली बार मिली तो उन्होने मुझे अलग तरह से ट्रीट नही किया, मुझे ये बहुत अच्छा लगा। वह बहुत ईमानदार इंसान हैं। वह अपने तरीके से जीते हैं और उन्हें दूसरी चीजें प्रभावित नही करतीं”।

दोनों की प्रेम कहानी के उदाहरण हमेशा देखने को मिलते हैं। दोनों एक दूसरे के साथ हर कदम पर खड़े रहते हैं। हाल ही में भी देखने को मिला कि प्रियंका गाँधी अपने पति रॉबर्ट के साथ ईडी के दफ्तर भी पहुंच गईं। यही जुड़ाव एक दूसरे के प्यार को मिसाल बनाता है।

Continue Reading
Advertisement
Advertisement

Trending