Connect with us

Business

विडियोकॉन लोन केस: चंदा कोचर के खिलाफ CBI ने दर्ज किया केस, कई जगह छापे

Published

on

CBI ने ICICI की पूर्व एमडी और सीईओ चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर, विडियोकॉन ग्रुप के एमडी वीएन धूत एवं अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज की। विडियोकॉन प्रमुख वीएन धूत के साथ कोचर के संबंधों की जांच के लिए प्राथमिक जांच यानी प्रेलिमिनरी इन्कवायरी (PE) दर्ज करने के 10 महीने बाद सीबीआई ने यह मुकदमा दर्ज किया है।

इससे पहले, केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने गुरुवार को 3,250 करोड़ रुपए के आईसीआईसीआई बैंक-वीडियोकॉन ऋण मामले में कथित अनियमितताओं के संबंध में एक प्राथमिकी दर्ज की तथा मुंबई में समूह के मुख्यालय और औरंगाबाद में कार्यालयों पर बृहस्पतिवार को छापे मारे।

अधिकारियों ने बताया कि छापे मारने का काम बृहस्पतिवार सुबह शुरू किया गया। इस दौरान आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व सीईओ चंदा कोचर के पति दीपक कोचर द्वारा संचालित कंपनी न्यूपावर और सुप्रीम एनर्जी पर भी छापे मारे गए।

क्या है मामला?

ICICI बैंक और वीडियोकॉन के शेयर होल्डर अरविंद गुप्ता ने प्रधानमंत्री, रिजर्व बैंक और सेबी को एक खत लिखकर वीडियोकॉन के अध्यक्ष वेणुगोपाल धूत और ICICI की सीईओ व एमडी चंदा कोचर पर एक-दूसरे को लाभ पहुंचाने का आरोप लगाया था. दावा है कि धूत की कंपनी वीडियोकॉन को आईसीआईसीआई बैंक से 3250 करोड़ रुपये का लोन दिया गया और इसके बदले धूत ने चंदा कोचर के पति दीपक कोचर की वैकल्पिक ऊर्जा कंपनी ‘नूपावर’ में अपना पैसा निवेश किया.

आरोप है कि इस तरह चंदा कोचर ने अपने पति की कंपनी के लिए वेणुगोपाल धूत को लाभ पहुंचाया. साल 2018 में यह खुलासा होने के बाद चंदा कोचर को बैंक से इस्तीफा देना पड़ा था. सीबीआई ने पहले फरवरी, 2018 में इस मामले में प्रारंभिक जांच (पीई) दर्ज की थी. जिसके बाद अब जांच एजेंसी ने एफआईआर दर्ज कर तफ्तीश जारी कर दी है. वीडियोकॉन को लोन देने के मामले में चंदा कोचर की भूमिका पर भी सवाल हैं, ऐसे में एफआईआर दर्ज होने के बाद उनकी व परिवार की मुश्किलें बढ़ सकती हैं.

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Business

भगौड़े माल्या के प्रत्यर्पण को ब्रिटेन ने सहमति, ब्रिटिश ग्रहमंत्री ने किए दस्तख़त

Published

on

भगौड़े विजय माल्या पर लंबे समय से चल रही प्रत्यर्पण की बात पर रविवार को ब्रिटिश कोर्ट ने सहमति दे दी। ब्रिटेन राष्ट्रपति साजिद वाजिद ने इस पूरी प्रक्रिया पर दस्तख़त कर कार्यवाही को आगे बढाया। इस फैसले का भारत ने स्वागत किया, सरकारी सूत्रों की कहना है कि भारत इस प्रक्रिया के जल्द से जल्द पूरी हैने की प्रतीक्षा कर रहा है। विजय माल्या का कहना है कि वो इस फेसले के खिलाफ याचिका दायर करेगा। विजय माल्या के पास ऐसा करने के लिए सिर्फ 14 दिन शेष हैं।
ब्रिटेन ग्रह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने इस खबर की पुष्टि करते हुए कहा कि माल्या के प्रत्यर्पण से जुड़े दस्तावज़ों पर ग्रह मंत्री ने रविवार को हस्ताक्षर कर दिए। मंत्री जाविद ने यह फैसला उनके पास आने के लगभग दो महीने बाद ही यह फैसला आ गया। उन्होंने बताया कि 3 फरवरी को ग्रह राज्य सचिव ने प्रत्यर्पण से जुड़े सभी दस्तावेजों को ध्यान पूर्वक अध्ययन किया।
हालाँकि सरकारी सूत्रों का कहना है कि इस संबंध में वहाँ के विदेश मंत्रालय से अभी कोई सूचना नही है। “हमें यह सूचना ब्रिटेन के ग्रह मंत्रालय से मिली। हम यू के सरकार के इस फैसले का स्वागत करते हैं और प्रत्यर्पण से जुड़ी प्रक्रिया के जल्द पूरा होने का इंतजार करते हैं।

Continue Reading

Business

विडीयोकॉन ग्रुप के लोन घोटाले मामले में आइसीआइसीआइ की जांच के तहत चंदा कोचर दोषी करार

Published

on

एक स्वतंत्र पैनल ने वीडियोकॉन को दिए गए 3250 करोड़ रुपए लोन घोटाले मामले में ICICI बैंक की पूर्व प्रमुख चंदा कोचर को दोषी पाया है। पैनल के अनुसार चंदा कोचर ने इस मामले में आचार संहिता का उल्लंघन किया। ICICI बैंक के निदेशक मंडल ने फैसला कर उन्हे बर्खास्त करार दिया साथ ही यह फैसला भी किया गया कि कोचर को अप्रैल 2009 से मार्च 2018 तक दिए गए सभी बोनस को ब्याज समेत वापस मांगा जाएगा। बैंक ने इस मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज बी श्रीकृष्णा की अगुवाई में करवाई थी। चंदा कोचर पर बैंक में मिले पद का गलत इस्तेमाल कर विडीयोकोन ग्रुप को कर्ज दे बैंक के नियमों के विरूध जा नीजी लाभ आरोप लगा है। बैंक ने बताया की कोचर ने बैंक के एनुअल डिस्क्लोजर भी गलत बताए जो कि बैंक की आचार संहिता के खिलाफ है जिस वजह से उन पर कार्रवाई की गई है। सीबीआई अलग से चंदा कोचर और उनके पति दीपक कोचर के खिलाफ साजिश और धोखधड़ी की मामला दर्ज कर रही है।

इस पूरे मामले की शुरूआत 2012 में हुई थी जब विडीयोकोन ग्रुप ने आइसीआइसीआइ बैंक से 3250 करोड़ रुपये का लोन लिया था। विडीयोकोन ग्रुप का यह लोन कुल 40 हजार करोड़ रुपये का एक हिस्सा था जिसे विडीयोकॉन ग्रुप ने एसबीआई के नेतृत्व में 20 बौंको से लिया था। 2010 में विडीयोकॉन ग्रुप के चेयरमैन वेणुगोपाल धूत पर यह आरोप लगाया गया था कि उन्होने न्यूपावर रीन्यूएबल्स प्राइवेट लिमीटेड (NRPL) को 64 करोड़ रुपये दिए थे। धूत ने इस कंपनी को दीपक कोचर और दो अन्य रिश्तेदारों के साथ मिलकर खड़ा किया था।

सीबआई ने 3250 करोड़ रुपए के कर्ज जारी करने के मामले में अनियमितताओं के आरोप में चंदा कोचर, दीपक कोचर और वेणूगोपाल धूत के खिलाफ केस दर्ज किया था।

Continue Reading

Business

अमेरिका ने चीन की टेलीकॉम कंपनी हुवावे के खिलाफ 23 केस दर्ज कराए……

Published

on

सोमवार को चीन की टेलीकॉम कंपनी हुवावे और उसकी मुख्य वित्तिय अधिकारी मेंग वानझू के खिलाफ अमेरिका के न्याय विभाग ने आपराधिक मामला दर्ज कर लिया है। इन पर बैंक जालसाजी, न्याय में रूकावट डालने और अमेरिकी कंपनी टी मोबाइल की टेक्नोलॉजी चुराने का आरोप है। अमेरिका ने कुल मिलाकर 23 मामले दर्ज कराए हैं। लेकिन मेंग और हुवावे ने सभी आरोपों को गलत बताया है। मेंग हुवावे के संस्थापक की बेटी हैं।केस दर्ज कराते वक्त आरोप में कहा गया है कि पिछले 10 सालों से हुवावे आपराधिक गतिविधियों में शामिल है और इसमें कंपनी के बड़े अधिकारी भी शामिल हैं। हुवावे के खिलाफ अमेरिका की कार्रवाई के कारण अमेरिका-चीन के बीच हो रहे व्यापार और बतचीत पर असर पड़ सकता है। दोनों देशों के बीच 30-31 जनवरी को मिटींग के दौरान बातचीत होनी है।

पिछले महीने औपचारिक तौर पर मेंग को ईरान पर लगी पाबंदियों का पालन न करने के चलते अमेरिका के कहने पर कनाडा में गिरफ्तार किया गया था। एक दिसंबर को उन्हे वेंकूवर से पकड़ा गया था। हालांकि बाद में कोर्ट ने मेंग को लगभग 53 करोड़ रुपए के जुर्माने पर जमानत दे दी थी। लेकिन, वहां भी वे 24 घंटे निगरानी में हैं। इसके लिए उनके टखने में एक इलेक्ट्रॉनिक टैग लगा हुआ है। इस मामले के चलते चीन के अमेरिका और कनाडा से रिश्तों में बुरी तरह बिगड़ गए। नियमों के मुताबिक 30 जनवरी तक प्रत्यर्पण की अर्जी दाखिल करने की डेडलाइन है। अमेरिका का कहना है कि समय रहते वह अपील दायर कर देगा। आरोपों में कहा गया है कि हुवावे ने ईरान में कारोबार करने के लिए अमेरिका और एक वैश्विक बैंक को अपनी दो सहयोगी कंपनियों हुवावे डिवाइस अमेरिका और स्काईकॉम टेक से रिश्तों को लेकर गुमराह किया। वहीं एक अन्य मामले में भी यह आरोप है कि कंपनी ने स्मार्टफोन की क्षमता को जांचने की तकनीक टी मोबाइल से चुराई। टी मोबाइल ने फोन की जांच के लिए इंसानों के हाथों की अंगुलियों की नकल बनाई थी।

Continue Reading
Advertisement
Advertisement

Trending